Ghalib mar gaya.

कतरा कतरा खतरा है,
दरिया में घड़ियाल,
दुनिया पूरी गोल है
दिखती चौरस हाल,
ग़ालिब मर गया!

छुप कर कीजै प्यार,
खुल कर कीजै वार,
सीख ही पूरी पोल है,
उल्टे सब व्यवहार,
ग़ालिब मर गया!

दिल्ली से कलकत्ते गए,
या ले गई रोज़ी रोटी,
अब दिल्ली ही जाय हैं,
जिन्हें चाहिए बोटी,
ग़ालिब मर गया!

रंज से खूगर हुआ,
मिटता नहीं अब रंज है,
बस्तियां वीरां हुई,
ये भी बस्तियों पर तंज है
ग़ालिब मर गया!

Advertisements