Unfulfilled

आइने टूटे थे जो उस रात तब ना जाने कब
मेरे पांवों में चुभ गया था टुकड़ा शीशे का
फिर मेरे कदम जहाँ पड़े, मैं लिखता गया
अपने ज़ख्मों की कहानी लहू से अपनी ही
नामुकम्मल है अभी भी वो किताब मेरी
जिसमें एक सफ़ा है वफ़ा के नाम से भी
ज़िक्र उसमें तुम्हारा है और मेरा भी
उस पे चस्पां है शीशे का वो टुकड़ा भी
तुम्हारा अक्स जिसमें अब तक है!

जफ़ा तो जब हो कि वफ़ा भी हो,
बिछड़े वो तब, जब मिला भी हो
तन मिले थे, मन मिले थे क्या
मन मिले थे तो फिर गिले क्यों हैं
अलग हुईं थी राहें या हमने कर डालीं
इस बात पर बहस-मुबाहिसा करो ना करो
राह हसीन है मगर मंज़िल को नहीं जाती है,
अगर मंज़िल को है तो रस्ता हसीन हो या ना हो!

तुम्हारे ख़्वाब के ताबीर भी अधूरे हैं
मेरा भी ताजमहल हो सका तामीर नहीं
कहाँ का शाह-ए-जहाँ, देख पैरहन मेरा
एक इबारत सी लिख रखी है पैबन्दों ने
बीते हुए लम्हों की जबानी जिसमें
अफ़सुर्दा रातों के कितने स्याह किस्से हैं
इस इन्तज़ार में कि तुम आओगे, सुनोगे कभी
इस ऐतबार से कि तुम ही समझ पाओगे!

20121126-220544.jpg

Advertisements

Red Bull

रात भर उड़ते रहे यूं मेरे ख्वाब के पर
मुझको भी लग गए हैं सुर्खाब के पर

अपनी रानाई पे गुरूर अच्छा है मगर,
तुमने देखे ही कहाँ हैं उस अजाब के पर

तेरे आरिज़ को यूं छूते हैं गेसू तेरे
समन को छू रहे हों जैसे गुलाब के पर

सुकून-ए-शब है, चांदनी खिली है अभी,
बस थोड़ी देर में लग जाएंगे महताब के पर

झपट्टे मारते चीलों में फँस गया खरगोश,
जंगल से शहर तक फैले हैं तेजाब के पर

हमें पता था सवाल उठाएगा मुझपे वो ही,
के जिसने काट दिए थे मेरे जवाब के पर